English English हिन्दी हिन्दी தமிழ் தமிழ்

दमा/ एलर्जिक ब्रोंकाइटिस/ खांसी का आयुर्वेदिक इलाज

नाक की एलर्जी के लक्षणों जैसे नाक से पानी बहना, छींके, गले में रेशा गिरना का समय से इलाज ना करने पर यह दमा/ खांसी/ एलर्जिक ब्रोंकाइटिस का रूप धारण कर लेता है | 

लक्षण

नाक से पानी बहना, छींके आना, आँखों में खारिश व् पानी बहना, कानो में से सायं की आवाज़ आना |
नाक में माँस का बड़ जाना, नाक में मस्से या पॉलिप बनने से नाक बंद रहना
साँस लेने में मुश्किल होना या साँस फूलना
छाती में से सीटियों की आवाज आना
गले में या छाती में रेशा रहना और अत्यदिक खांसी आना
साँस लेने के लिए पंप या इनहेलर का अत्यदिक इस्तेमाल

आरोग्यम भारत का पहला आयुर्वेदिक हस्पताल है जिसने इस तरह के हजारो मरीजों का पिछले 20 सालों से इलाज किया है |

आरोग्यम ने अपने खोज पत्र यूरोपियन एकेडमी ऑफ आयुर्वेदा में प्रस्तुत किए है | आरोग्यम के डॉ सतनाम सिंह और डॉ हरवीन कौर को ब्रिटिश पार्लियामेंट में बतौर वी. आई.पी. स्पीकर से सम्मानित किया गया |

आरोग्यम ने दमा और एलर्जिक ब्रोंकाइटिस के हजारो मरीजों का जड़ से इलाज किया है |

Fill your Details and an Arogyam doctor will call you

Understand the root-cause of your Asthma problems. ​


    दमा / एलर्जिक ब्रोंकाइटिस होने के कारण

    फसलों की कटाई के महीने जैसे मार्च, अप्रैल, सितम्बर, अक्टूबर में खेतो से धुल क कण हवा को प्रदूषित कर देते है | जो हमारे नाक और फेफड़ो में एलर्जी करती है |
    मौसम में बदलाव भी फेफड़ो और नाक में एलर्जी बना देता है |
    बारिश के मौसम में हवा में नमी भी बहुत लोगो में तकलीफ बड़ा देती है
    पोलन जोकि कुछ एक फूल पौधों में होते है वह एलर्जी का बहुत बड़ा कारण बनते है | पोलन एलर्जी से आँखों में खारिश, नाक में पानी बहना, छींके और दमा के लक्षण (साँस फूलना आदि बड़ जाते है )

    दमा / एलर्जिक ब्रोंकाइटिस के घरेलु नुस्खे

    सबसे पहले और सबसे उत्तम उपाय है | नाक में गाय के घी की दो दो बुँदे हर रोज़ डाले| घी नाक पर परत बना देता है जिस कारण प्रदूषण और एलर्जी के कण नाक को और फेफड़ो की झिल्ली तंग कर हे नहीं पाते |

    भस्त्रिका प्रणायामहर रोज़ 5-10 मिनट तक करे और इसको आदत बड़ा कर 15-30 मिनट तक ले जाएं| यह आदत हमेशा जिंदगी भर रखनी है |

    तिल के तेल में सेंधा नमक मिला कर छाती और पीठ में अच्छे से लगा कर गरम पानी को भाप ले | इससे फेफड़ो के कोने कोने में गया हुआ रेशा  निकलने की जगह बनाएगा

    तली, खट्टी, मैदे वाली चीज़े ना खाए | ठंडा पानी या आहार का सेवन ना करे |

    कोशिश करके AC व् Heater से दूर रहे |

    हमारे डॉक्टर से परामर्श करें

    दमा / एलर्जिक ब्रोंकाइटिस का आयुर्वेदिक इलाज

    अंग्रेजी दवाइओ में इसका कोई भी पक्का इलाज नहीं है | अगर है तो उसके बहुत सारे साइड इफेक्ट्स है |

    आयुर्वेद में बहुत लाभकारी जड़ी बूटियों के साथ उत्तम योग ” आरोग्यम केयर पैक ” तैयार किया गया है | आरोग्यम के डॉक्टर्स को दुनिया भर में पहचान और ख्याति मिली इसके सफल इलाज के बाद हजारो मरीजों ने जड़ से होने वाले इस इलाज से हमेशा के लिए अपने पंप इन्हेलर से छुटकारा पा लिया है |

    आश्वस्त नहीं? कुछ प्रशंसापत्र देखें

    आयुर्वेद जड़ी बूटियों का सबसे अच्छा संयोजन यानी अस्थमा केयर पैक प्रदान करता है

    Punjab Kesari News

    Copyright © 2020 Arogyamayurveda. All Rights Reserved.
    You need to add an indication that the promoted product is not a medicine (Promoted product is Dietary Supplement)
    Add to cart